आयुर्वेद के साथ अपनी प्रतिरक्षा को कैसे मजबूत करें

आयुर्वेद के साथ अपनी प्रतिरक्षा को कैसे मजबूत करें :- वर्तमान समय में एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली का महत्व सर्वोपरि है। जब आपके पास कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली होती है, तो यह आपके शरीर की वायरस, बैक्टीरिया और परजीवी जैसे रोगजनकों से बचाव करने की क्षमता को कम कर देती है।

आप आसानी से संक्रमण और बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। 

शुक्र है, आयुर्वेद का प्राचीन ज्ञान हमें हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए कई सुरक्षित और प्राकृतिक तरीके प्रदान करता है। आयुर्वेद के अनुसार, मजबूत प्रतिरक्षा बेहतर पाचन, अच्छे चयापचय, स्वस्थ यकृत के कामकाज और संतुलित हार्मोनल कार्य का परिणाम है।

एक आयुर्वेदिक चिकित्सक और लेखक डॉ. शरद कुलकर्णी के साथ इस साक्षात्कार में, हम समझते हैं कि हम आयुर्वेद के साथ अपनी प्रतिरक्षा को कैसे मजबूत कर सकते हैं।

Contents

Q1. कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के लक्षण क्या हैं? 

यदि आप बार-बार संक्रमण से पीड़ित हैं, तो यह कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली का संकेत है।

जब आपका शरीर आक्रमणकारी कीटाणुओं और विषाणुओं से कुशलता से नहीं लड़ पाता है, तो आप पूरे वर्ष में अधिक बार बीमार पड़ते हैं।

आप बार-बार त्वचा में संक्रमण, श्वसन संक्रमण और फंगल संक्रमण से पीड़ित हो सकते हैं। घाव भरने में देरी, चिंता, थकान और कमजोर पाचन तंत्र भी कमजोर प्रतिरक्षा का संकेत हो सकता है।

एक सीबीपी (पूर्ण रक्त प्रोफ़ाइल) परीक्षण सफेद रक्त कोशिकाओं की गिनती को मापकर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली की ताकत का परीक्षण करने में मदद कर सकता है, जो रोगजनकों से लड़ने के लिए जिम्मेदार है।

प्रश्न 2. आयुर्वेद में, प्रतिरक्षा हमारे पाचन तंत्र की ताकत से दृढ़ता से जुड़ा हुआ है। ऐसे कौन से खाद्य पदार्थ हैं जो मदद कर सकते हैं और स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए किन चीजों से बचना चाहिए?

जी हां, आयुर्वेद के अनुसार, आपका पेट स्वास्थ्य का प्रवेश द्वार है। कमजोर पाचन तंत्र सभी बीमारियों से जुड़ा होता है। क्या आप जानते हैं कि लगभग 70% प्रतिरक्षा प्रणाली आपके पाचन तंत्र में होती है? एक शक्तिशाली पाचन तंत्र हानिकारक पदार्थों को नष्ट करने और कचरे के रूप में उनसे छुटकारा पाने में सक्षम है।

कमजोर होने पर यह दस्त, कब्ज, पेट दर्द या सूजन जैसी पेट की समस्याओं को रास्ता देता है

Read More : आयुर्वेद से सीखी दुनिया की 4 अतुल्य बातें

अपने पाचन तंत्र के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए ताजा पका हुआ घर का खाना खाएं। खाना बनाने के 6 घंटे बीत जाने के बाद भी खाना खाने से बचें। अन्य खाद्य पदार्थों से बचने के लिए ठंडे और प्रशीतित खाद्य पदार्थ, तैलीय और जंक, बाहर का भोजन / होटल का भोजन, कच्चा मांस और असमय भोजन हैं।

Q3. आयुर्वेद के अनुसार ऐसे कौन से कारक हैं जो हमारी प्रतिरक्षा को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं?

आप सोच सकते हैं कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली की ताकत जन्म के समय ही तय हो जाती है। लेकिन, यह सच नहीं है। बहुत कम ही लोग प्राथमिक प्रतिरक्षा प्रणाली विकार के साथ पैदा होते हैं। अधिकांश लोगों के लिए, उनकी अनियमित और अनियमित जीवनशैली कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के पीछे का कारण है।

निम्नलिखित कारक आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं –

  • अधिक सोचना और चिंता करना
  • मोटापा
  • असमय, अस्वच्छ भोजन, ठंडे भोजन या मसालेदार और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ
  • व्यायाम की कमी
  • आंखों और अन्य इंद्रियों पर अत्यधिक दबाव
  • शराब और धूम्रपान
  • अनियमित नींद कार्यक्रम – देर रात तक जागना

प्रश्न4. क्या चिंता हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकती है? हम चिंता और अन्य नकारात्मक विचारों को कैसे प्रबंधित कर सकते हैं?

चिंता के कारण कोर्टिसोल की निरंतर रिहाई श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या को दबा देती है, जिससे समय के साथ आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है। तनाव भी आपके शरीर को ठीक करने के लिए कठिन बना देता है, क्योंकि आपकी तनाव प्रतिक्रिया आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देती है।

अपनी दिनचर्या में निम्नलिखित बातों का ध्यान रखकर चिंता को नियंत्रित किया जा सकता है।

  1. योग और प्राणायाम 
  2. ध्यान
  3. स्वस्थ आहार
  4. रात की उचित नींद 
  5. व्यायाम
  6. सूरज की रोशनी 

आप अपने शरीर को तनाव मुक्त करने में मदद करने के लिए आयुर्वेदिक बॉडी मसाज ऑयल से नियमित मालिश भी कर सकते हैं।

पर्याप्त धूप और ताजी हवा के साथ एक सुखद जगह खोजें। सुनिश्चित करें कि आप कुछ समय वहां योग और ध्यान का अभ्यास करने में बिताएं। विटामिन डी का अवशोषण भी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में सहायक होता है।

शांत करने वाला संगीत सुनना भी चिंता को प्रबंधित करने में सहायक होता है। 

प्रश्न5. कौन सी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करती हैं? इन्हें लेने का सही तरीका क्या है?

तुलसी, एलोवेरा, गुडूची (टिनोस्पोरा), नीम, आंवला, भृंगराज, त्रिफला, स्पिरुलिना, अदरक और काली मिर्च ऐसी प्रसिद्ध आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियाँ और मसाले हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करते हैं।

ये पाउडर के रूप में उपलब्ध होते हैं और इन्हें शहद के साथ लिया जा सकता है या पानी में उबालकर सेवन किया जा सकता है। एक आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करने और इन जड़ी बूटियों को उनकी देखरेख में लेने की सलाह दी जाती है।

वे आपको सही जड़ी बूटी और इसकी खुराक के बारे में मार्गदर्शन करेंगे। 

यहां कुछ आयुर्वेदिक सुपर सामग्रियां दी गई हैं जिन्हें आप अपने आहार में शामिल कर प्रतिरक्षा को बढ़ा सकते हैं। 

आंवला – यह विटामिन सी के सबसे समृद्ध स्रोतों में से एक है और समग्र प्रतिरक्षा के लिए एकदम सही है। यह शरीर प्रणालियों को फिर से जीवंत और पुनर्जीवित कर सकता है। इसमें शक्तिशाली विरोधी भड़काऊ गुण भी हैं। कच्चे रूप में आंवले का सेवन करना सबसे अच्छा है, हालांकि पाउडर के रूप में भी उपलब्ध है।
अदरक – यह एंटी-माइक्रोबियल यौगिकों से भरा हुआ है जो संक्रमण से लड़ने में मदद करता है, और प्रतिरक्षा के स्तर को बढ़ाता है। यह पाचन में भी सहायता करता है और श्वसन संबंधी बीमारियों जैसे सर्दी, खांसी, निमोनिया, अस्थमा और ब्रोंकाइटिस में मदद करता है।

तुलसी – यह एक औषधीय पौधा है जिसमें संक्रमण रोधी गुण होते हैं। यह खांसी, जुकाम, गले में खराश और अस्थमा जैसे श्वसन तंत्र के संक्रमण में मदद करता है। तुलसी का ताजा रस दिन में दो बार लेना स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है।

काली मिर्च – यह एक एंटीऑक्सीडेंट और एक जीवाणुरोधी एजेंट दोनों है। इसलिए, यह समग्र कल्याण में जबरदस्त योगदान देता है। काली मिर्च में मौजूद पिपेरिन फेफड़ों को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करता है। यह टी-कोशिकाओं के उत्पादन को भी बढ़ाता है, जो संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं।

प्रश्न6. प्रतिरक्षा बढ़ाने में व्यायाम क्या भूमिका निभाता है? 

योग, प्राणायाम और नियमित व्यायाम सभी ऐसे कारक हैं जो एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं। आपको सप्ताह में तीन दिन कम से कम 30 मिनट की शारीरिक गतिविधि का लक्ष्य रखना चाहिए। इसमें पैदल चलना, साइकिल चलाना, योग, तैराकी या अन्य कम प्रभाव वाले व्यायाम शामिल हो सकते हैं। किसी भी प्रकार की गतिविधि जो रक्त परिसंचरण को बढ़ाती है, प्रतिरक्षा को मजबूत करती है। श्वसन व्यायाम और प्राणायाम भी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं।

निम्नलिखित योग मुद्राएं प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद कर सकती हैं –

  1. ताड़ासन (पर्वत मुद्रा) – संतुलन बहाल करने में मदद करता है, श्वास को स्थिर करता है, जागरूकता बढ़ाता है, तनाव मुक्त करता है और रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है।
  2. वृक्षासन (ट्री पोज़) – रीढ़ को मजबूत करता है, तंत्रिका-मांसपेशियों के समन्वय में सहायता करता है, पूरे शरीर को स्फूर्ति देता है, सहनशक्ति बढ़ाता है, और आपको केंद्रित रखता है।
  3. Padangusthasana (बिग टो पोज़) – तंत्रिका तंत्र को आराम देता है, तनाव कम करता है और नींद में सुधार करता है।
  4. उत्कटासन (कुर्सी मुद्रा) – शक्ति, ऊर्जा और संतुलन में सुधार करता है। दिल को उत्तेजित करता है, कोर संलग्न करता है, और पेट के अंगों की मालिश करता है।
  5. त्रिकोणासन (त्रिकोण मुद्रा) – शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, पाचन में सहायता करता है, रक्तचाप को कम करता है, मन को शांत करता है और तनाव को कम करता है।

यहां महत्वपूर्ण बात यह है कि जीवनशैली में बदलाव करके एक कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली की मरम्मत की जा सकती है। आयुर्वेदिक ग्रंथ स्पष्ट रूप से सरल दैनिक दिनचर्या (दिनाचार्य) का वर्णन करते हैं और मौसमी दिनचर्या (रुतुचार्य) प्रकृति की शक्तियों के साथ संरेखित करने और स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा को बनाए रखने के साधन हैं।