आयुर्वेद क्या है?

आयुर्वेद क्या है? | आयुर्वेद, या आयुर्वेदिक चिकित्सा, एक स्वस्थ जीवन शैली (healthy lifestyle) प्रणाली है जिसे भारत में लोग 5,000 से अधिक वर्षों से उपयोग कर रहे हैं। आयुर्वेद जीवन शैली प्रथाओं (जैसे मालिश, ध्यान, योग और आहार परिवर्तन) और हर्बल उपचार (Herbal Treatment) के उपयोग के माध्यम से अच्छे स्वास्थ्य और बीमारी की रोकथाम (disease prevention) और उपचार पर जोर देता है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा (Ayurvedic Medicine) समग्र है, जिसका अर्थ है शरीर और मन को समग्र रूप से देखना। आयुर्वेद (Ayurved) न केवल किसी व्यक्ति की शारीरिक शिकायतों (Physical Complaints) का इलाज करता है, बल्कि स्वास्थ्य को बनाए रखने या बेहतर बनाने में मदद करने के लिए जीवनशैली प्रथाओं (Lifestyle Practices) को भी बदलता है।

आयुर्वेद क्या है? उपयोग, आयुर्वेदिक उपचार
आयुर्वेद क्या है? उपयोग, आयुर्वेदिक उपचार

आयुर्वेद के अनुसार (According to Ayurveda), प्रकृति के पांच तत्व (अंतरिक्ष, वायु, अग्नि, जल, पृथ्वी) शरीर में तीन घटकों (दोषों) के रूप में मिलते हैं जिन्हें वात, पित्त और कफ के नाम से जाना जाता है। ये दोष प्रकृति के मूल तत्वों और शरीर के विशिष्ट कार्यों से निकटता से संबंधित हैं। इन दोषों का संतुलन इष्टतम स्वास्थ्य के लिए आवश्यक माना जाता है।

प्रेगनेंसी के समय निर्धारित होने वाले दोष व्यक्ति के शारीरिक बनावट और व्यक्तित्व से भी संबंधित होते हैं। वात श्रृंगार वाले व्यक्ति का कद छोटा, पतला होता है। पित्त शरीर शैली एक मध्यम, पेशी निर्माण की अधिक है। कफ की उपस्थिति आमतौर पर बड़ी और अच्छी तरह से विकसित होती है। अधिकांश लोगों को दोषों का संयोजन माना जाता है, जिसमें एक प्रकार आमतौर पर प्रमुख होता है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा में, यह माना जाता है कि यदि तीनों दोषों में से किसी एक में असंतुलन (imbalance) होता है, तो बीमारी का परिणाम होता है। आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic Medicine) कई तरह से बीमारी का इलाज करती है, जिसमें आहार में बदलाव, हर्बल उपचार (Herbal Remedy) और व्यायाम (work out) शामिल हैं। आयुर्वेदिक दर्शन के अनुसार, आप बीमारी के इलाज के लिए योग, ध्यान या परामर्श का भी उपयोग कर सकते हैं।

आयुर्वेद का उपयोग किस लिए किया जाता है?

कुछ लोग स्वास्थ्य (Health) को बनाए रखने, तनाव (Stress) कम करने और लचीलेपन, ताकत और सहनशक्ति में सुधार के लिए आयुर्वेदिक प्रथाओं का उपयोग करते हैं। अस्थमा (Asthma) , उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) और गठिया (Arthritis) जैसी बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए योग और ध्यान जैसे अभ्यास मददगार हो सकते हैं ।

आयुर्वेद अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने और बीमारी के इलाज के लिए उचित आहार (Proper Diet) पर जोर देता है। व्यक्ति के दोष प्रकार के आधार पर हर्बल दवाएं (Herbal Medicine) निर्धारित की जाती हैं।

क्या आयुर्वेद सुरक्षित है?

योग और ध्यान जैसे आयुर्वेदिक अभ्यास स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के सुरक्षित तरीके हो सकते हैं। यदि आपको कोई लंबी अवधि की बीमारी है, तो आप आयुर्वेद को पारंपरिक चिकित्सा उपचार (Traditional Medical Treatment of Ayurveda) के साथ जोड़ सकते हैं।

आयुर्वेदिक हर्बल दवाएं (Ayurvedic Herbal Medicines), पारंपरिक दवाओं की तरह, दुष्प्रभाव (Side effects) पैदा कर सकती हैं, एलर्जी प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर कर सकती हैं, या आपके द्वारा ली जा रही अन्य दवाओं या जड़ी-बूटियों (Herbs) के साथ बातचीत कर सकती हैं। कुछ आयुर्वेदिक दवाओं (Ayurvedic Herbal Medicines) में भारी धातुओं का उच्च स्तर हो सकता है, जो आपके शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है।

किसी भी पूरक स्वास्थ्य अभ्यास के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें जिसे आप आजमाना चाहते हैं या पहले से उपयोग कर रहे हैं। आपका डॉक्टर आपके स्वास्थ्य को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में आपकी मदद कर सकता है यदि वह आपकी सभी स्वास्थ्य प्रथाओं के बारे में जानता है। आयुर्वेद क्या है?

Read More : 7 Best Tips for Diabetes Control in Hindi

आयुर्वेदिक उपचार :