Gurgaon Me Shighrapatan ka ilaj

on Me Shighrapatan ka ilaj
गुड़गॉव में शीघ्रपतन का इलाज

शीघ्रपतन – Premature Ejaculation

स्खलन का अर्थ है लिंग के माध्यम से शरीर से वीर्य का स्राव होना। शीघ्र स्खलन या शीघ्रपतन (प्रिमेच्यूर ईजॅक्युलेशन या पीई) वह स्थिति है जिसमें किसी पुरुष का सेक्स के दौरान उसके साथी की तुलना में वीर्य का जल्दी गिरना या निकलना। शीघ्र स्खलन को तेजी से स्खलन, समय से पहले चरमोत्कर्ष या जल्दी स्खलन के नाम से भी जाना जाता है।

सामान्यतः मेडिकल रूप से वीर्य जल्दी निकलना या स्खलित होना कोई शारीरिक समस्या नहीं पैदा करता है। लेकिन अगर यह सेक्स को कम आनंददायक बनाता है और आपके साथी के साथ रिश्तों पर प्रभाव डालता है तो यह निराशाजनक हो सकता है। ऐसा अक्सर होता है और समस्याएं बढ़ती जाती हैं क्योंकि आपके साथी की सेक्स संतुष्टि एक स्वस्थ और खुशनुमा जीवन के लिए आवश्यक हैं।

30% से अधिक पुरुष कभी न कभी समय से पहले स्खलन से पीड़ित हुए हैं। यह व्यक्ति के आत्मसम्मान को प्रभावित करता है और पार्टनर को असंतुष्ट छोड़ देता है। इस समस्या को अक्सर मनोवैज्ञानिक माना जाता है, लेकिन कुछ बायोलॉजिकल कारक भी हो सकते हैं।

स्खलन केंद्रीय तंत्रिका तंत्र द्वारा नियंत्रित किया जाता है। जब पुरुष यौन उत्तेजित होते हैं, तो संकेत आपके रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क को जाते हैं। जब पुरुष उत्तेजना के एक स्तर तक पहुँचते हैं, तब संकेत आपके दिमाग से आपके प्रजनन अंगों को जाते हैं। इससे लिंग के माध्यम से वीर्य निकलता है, यानि स्खलन होता है।

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) के प्रकार – Types of Premature Ejaculation

शीघ्रपतन के दो मुख्य प्रकार हैं –

  • लाइफलांग (प्राथमिक) शीघ्र स्खलन:– इस प्रकार का शीघ्र स्खलन आपके जीवन के पहले यौनिक संपर्क से लेकर जीवनभर या लगभग हमेशा होता है।
  • अर्जित (माध्यमिक) शीघ्र स्खलन:- आपको बिना किसी समस्या के पूर्व यौन अनुभव के बाद अगर शीघ्र स्खलन की समस्या होती है तो उसे अर्जित या अक्वायर्ड शीघ्र स्खलन कहते हैं।

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) क्या है और लक्षण – Premature Ejaculation Symptoms

शीघ्र स्खलन के निम्नलिखित प्रमुख लक्षण हैं –

  • तेज उत्तेजना, स्तंभन और स्खलन प्रक्रिया।
  • स्खलन आमतौर पर उत्तेजना के कुछ सेकंड के भीतर हो जाता है।

गौरतलब है कि वीर्य जल्दी निकलने की समस्या केवल सेक्स के दौरान ही नहीं, बल्कि हस्तमैथुन के दौरान भी हो सकती है।

भारत में अपने आप को शीघ्रपतन की समस्या से पीड़ित मानने वाले अधिकतर पुरुषों को वास्तव में यह समस्या नहीं है। भारत में यौन शिक्षा की कमी है। इसके चलते जानकरी का स्रोत बनते हैं इंटरनेट पर पोर्न वीडियो और दोस्त। दोनों ही आपको बताते हैं कि सेक्स घंटों के लिए चलना चाहिए और पुरुष बहुत ही लम्बे समय तक स्खलित नहीं होना चाहिए। लेकिन सच बात यह है कि उत्तेजना के बाद वीर्य निकलने का औसत समय केवल 2 से 3 मिनट है। और हम अपेक्षा रखते हैं घंटों की। तो ध्यान रहे कि यदि आपका वीर्य चंद मिनटों में ही स्खलित हो रहा है, तो यह नार्मल है।

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) के कारण – Premature Ejaculation Causes

समय से पहले स्खलन का सही कारण ज्ञात नहीं है। हालांकि यह पहले केवल मनोवैज्ञानिक माना जाता था, पर अब डॉक्टरों को पता है कि समय से पहले स्खलन में मनोवैज्ञानिक और जैविक कारकों का मेल है।

मनोवैज्ञानिक कारण

  • पहली बार सेक्स का अनुभव
  • यौन शोषण
  • अपने शरीर की अपने ही मन में नाकारात्मक छवि
  • डिप्रेशन
  • शीघ्र स्खलन का कारण कई लोगो में चिंता की समस्याएं भी हो सकता है, विशेष रूप से यौन प्रदर्शन या अन्य मुद्दों से संबंधित चिंता।
  • रिश्ते संबंधी समस्याएं भी शीघ्र स्खलन का कारण हो सकती हैं।
  • समय से पहले स्खलन के बारे में चिंता करना
  • जिन पुरुषों को स्तंभन दोष है, उनमें जल्दी स्खलन हो सकता है, जो कि बदलना मुश्किल हो सकता है। चूंकि स्खलन के बाद उत्तेजना दूर हो जाती है इसलिए यह जानना मुश्किल हो सकता है कि समस्या पीई है या स्तंभन दोष (ईडी)। ईडी का पहले इलाज किया जाना चाहिए।

बायोलॉजिकल कारण

  • थायरॉयड ग्रंथि या शरीर में सेक्स हार्मोन के असामान्य स्तर के साथ हार्मोनल समस्याएं
  • मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर के साथ समस्याएं, जिससे मस्तिष्क के आनंद केंद्रों को सही संकेत देने में विफल हो जाते हैं
  • आपकी स्खलन प्रणाली के प्रतिवर्त (रिफ्लेक्स) तंत्र के साथ समस्याएं
  • प्रोस्टेट या मूत्रमार्ग में संक्रमण
  • आनुवंशिकता
  • सर्जरी या मानसिक आघात के कारण तंत्रिका या संवेदी प्रणाली में क्षति

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) से बचाव – Prevention of Premature Ejaculation

शीघ्रपतन की समस्या होने से रोकने के लिए कुछ आसान उपाय हैं, आप इन्हें ज़रूर अपनाएं

  1. शीघ्र स्खलन से बचने के लिए अन्य यौन सुखों पर ध्यान दें। इससे चिंता कम हो सकती है और आपको स्खलन पर बेहतर नियंत्रण प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।
  2. स्खलन रिफ्लेक्स (शरीर का एक स्वत: रिफ्लेक्स, जिसके दौरान स्खलन होता है) को रोकने के लिए एक गहरी सांस लें।
  3. अपने साथी के साथ सेक्स करते हुए उसे ऊपर रहने को कहें (ताकि जब आप स्खलन के करीब हों तो वो दूर हट सके)।
  4. सेक्स के दौरान रुके और कुछ उबाऊ चीज के बारे में सोचें।

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) का परीक्षण – Diagnosis of Premature Ejaculation

आपके यौन जीवन के बारे में पूछने के अलावा, आपका डॉक्टर आपके स्वास्थ्य के इतिहास के बारे में पूछेगा और शारीरिक परिक्षण भी कर सकता है।
यदि आपको समय से पहले स्खलन और उत्तेजना लाने या बनाए रखने दोनों में समस्या है, तो आपका डॉक्टर आपका टेस्टोस्टेरोन टेस्ट के लिए रक्त परीक्षण या अन्य परीक्षण कर सकते हैं।
कुछ मामलों में, आपके चिकित्सक सुझाव दे सकते हैं कि आप मूत्र रोग विशेषज्ञ या मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ के पास जाएँ, जो पुरुषों के यौन रोग के विशेषज्ञ भी हों।

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) का इलाज – Premature Ejaculation Treatment

शीघ्रपतन के उपचार के लिए आज कई विकल्प उपलब्ध हैं जैसे कि स्वयं इस पर नियंत्रण पाना सीखना, पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज करना, कुछ दवाओं का उपयोग, और भी बहुत कुछ। आइये जानते हैं –

अपने स्खलन रिफ्लेक्स पर नियंत्रण पाएं

नियमित रूप से (प्रति सप्ताह तीन से पांच बार) संवेदनशीलता और उत्तेजना के स्तर के आदी बनने के लिए स्वयं उत्तेजक (हस्तमैथुन) से शुरू करें। अलग-अलग संवेदनाओं का आदि होने के लिए गीले हाथ और सूखे हाथ दोनों के साथ हस्तमैथुन करने की कोशिश करें।

जब तक आपको वीर्यपात होना महसूस हो, तब तक हस्तमैथुन करते हुए नियंत्रण करने का प्रयास करें, वीर्यपात होने से पहले ही हस्तमैथुन रोक दें, अब उत्तेजना कम हो जाने दे, लगभग पांच मिनट या उससे अधिक और तब फिर से हस्तमैथुन करना शुरू करें। अंततः वीर्यपात होने से पहले तीन या चार बार इस क्रिया का प्रयोग करें।

इस क्रिया का अभ्यास करने से आपको यह जानने में मदद मिलेगी कि आपका “गैर-वापसी का बिंदु” कहां है, ताकि साथी से सेक्स के दौरान जब आपको लगता है कि वीर्यपात होने वाला है, तो आप यौन स्थितियों को बदलने के लिए लिंग बाहर खींच लें। इससे एक पल के लिए वीर्यपात रोक सकते हैं।

दूसरा, आप अपना स्ट्रोक बदल सकते हैं (सेक्स के दौरान अंदर और बाहर के बजाय आप अपने साथी के अंदर अपने लिंग को छोड़ सकते हैं और सर्कल में जा सकते हैं, जो थोड़ा कम उत्तेजक हो सकता है)। स्खलन पर नियंत्रण पाने के लिए आपके ‘गैर-वापसी का बिंदु’ का क्या अर्थ है, यह जानना महत्वपूर्ण है।

पैल्विक फ्लोर मांसपेशी व्यायाम

तीन महीने के नियमित पैल्विक फ्लोर मांसपेशियों के अभ्यास के बाद 55 पुरुषों के ऊपर एक छोटे से अध्ययन में पेनाइल फंक्शन में सुधार देखा गया और छह महीने बाद 40 प्रतिशत पुरुषों ने सामान्य स्तंभन फंक्शन पुनः प्राप्त कर लिया था।

अपने पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को पहचानें। जब पेशाप करते-करते उसे बीच में रोकते हैं तो इसके लिए आपके द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली मांसपेशियां आपके पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियां हैं। जब आप इन मांसपेशियों को सिकोड़ते हैं तो आपके अंडकोष ऊपर उठ जाते हैं।

अब जब आप जानते हैं कि ये मांसपेशियां कहाँ हैं, उन्हें 5 से 20 सेकंड के लिए सिकोड़े और फिर उन्हें सामान्य रूप में छोड़ दे। इस अभ्यास को एक साथ 10 से 20 बार दोहराएं, दिन में तीन से चार बार आप यह अभ्यास कर सकते हैं।

कंडोम का इस्तेमाल करें

कंडोम का उपयोग करने से स्खलन के समय को बढ़ाने में भी मदद मिलती है। वे संभोग के दौरान संवेदनशीलता को कम करने का काम करते हैं, इसलिए वे शीघ्र स्खलन की समस्या के लिए सहायक हो सकते हैं। ऐसे ब्रांड के कंडोम का प्रयोग करें जो आकार में थोड़े मोटे हो।

सेक्स से पहले हस्तमैथुन करें

बहुत से पुरुषों को दूसरी बार उत्तेजना के दौरान कम संवेदनशीलता का अनुभव होता है। अक्सर समय से पहले स्खलन के लिए एक अच्छा इलाज है – एक बार सेक्स से पहले ही वीर्यपात करना (शायद संभोग के दौरान), और फिर उत्तेजना प्राप्त करके अपने साथी को खुश करने के लिए आगे बढ़ें। दूसरी उत्तेजना का उपयोग लंबे समय तक कर सकेंगे।

हालांकि कुछ जोड़ों ने शुरू में इस तरीके के बारे में शिकायत की है, लेकिन इसने बहुत से जोड़ों के लिए बहुत अच्छा काम किया है।

ड्रग्स और सुन्न करने वाली क्रीम या स्प्रे

पीई यानी शीघ्र स्खलन का इलाज करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में किसी ड्रग्स को मंजूरी नहीं दी गई है। फिर भी, कुछ दवाएं और क्रीम या स्प्रे है। जो पीई से पीड़ित पुरुषों में स्खलन धीमा करने के लिए प्रायोगिक स्तर पर उपयोगी पायें गए है ।

कृपया ध्यान दें कि निम्न दवाएं केवल सामान्य जानकारी के उद्देश्य से बताई गयी है। सख्त हिदायत दी जाती है कि किसी भी दवा को एक अच्छे डॉक्टर की सिफारिश के बिना न लें।

डॉक्टरों ने प्रायोगिक चरण में यह पाया है कि एंटीडिप्रेसेंट के प्रयोग से पुरुषों और महिलाओं में ओर्गास्म प्राप्त करने में देरी होती है। फ्लूक्सैटिन (Fluoxetine), परोक्सेटीन (Paroxetine), सर्ट्रालाइन (Sertraline) और क्लॉमिप्रामाइन (Clomipramine) जैसे ड्रग्स सेरोटोनिन के स्तर को प्रभावित करते हैं। पीई का इलाज करने के लिए डॉक्टरों ने इन दवाओं का इस्तेमाल “ऑफ-लेबल” (दवा के मूल उपयोग से अलग कारण के लिए) करना शुरू कर दिया।

पीई के लिए दवाएं हर दिन या केवल सेक्स से पहले ही ली जा सकती हैं। आपका डॉक्टर आपकी गतिविधि स्तर के आधार पर तय करेगा कि आपको कौनसी दवा लेनी चाहिए। दवा लेने का सबसे अच्छा समय स्पष्ट नहीं है। ज्यादातर डॉक्टर सेक्स से पहले 2 से 6 घंटे का सुझाव देते हैं। यदि आप ये दवाएं लेना बंद कर देते हैं तो पीई वापस आ सकता है। पीई वाले अधिकांश लोगों को एक निरंतर आधार पर इन दवाओं को लेने की जरूरत होती है।

ये क्रीम या स्प्रे लिंग के मुँह पर 20 से 30 मिनट सेक्स से पहले लगाए जाते हैं। यदि आप उपयोग के लिए निर्धारित मात्रा से अधिक समय तक अपने लिंग पर क्रीम या स्प्रे छोड़ते हैं, तो आपकी उत्तेजना समाप्त हो सकती है, इसलिए मात्रा संबंधी निर्देशों का सख्ती से पालन करें। सेक्स से 5 से 10 मिनट पहले अपने लिंग पर लगे क्रीम या स्प्रे को धो लें। इसे सेक्स के दौरान लिंग पर बिलकुल भी लगा न रहने दे, क्योंकि आपके साथी की योनि को नुकसान हो सकता हैं।

शीघ्रपतन (शीघ्र स्खलन) के नुकसान – Premature Ejaculation Complications

शीघ्रपतन आपके व्यक्तिगत जीवन में समस्याएं पैदा कर सकता है, जिसमें शामिल हैं –
  • तनाव और रिश्ते की समस्याएं – शीघ्रपतन की एक आम जटिलता पति-पत्नी के आपसी संबंध में तनाव है
  • प्रजनन संबंधी समस्याएं – शीघ्रपतन कभी-कभी उन जोड़ों के लिए बच्चा पाना मुश्किल बना सकता है जो बच्चा पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

Want A Consultation

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Ut elit tellus, luctus nec ullamcorper mattis, pulvinar dapibus leo.

  • Skin Problems
  • Sexual Problems
  • Skin Problems
  • Sexual Problems
  • on Me Shighrapatan ka ilaj

    BOOK APPOINTMENT